धनबाद:ग्लोबल टेंडर के नाम पर धनबाद नगर निगम ने एक ही संवेदक को दिया 15 करोड रुपये का काम मामला वार्ड संख्या एक, दो और तीन सही से जांच हुई तो नपेगे निगम के कई अधिकारी



धनबाद/ यह बात सच है कि धनबाद नगर निगम वार्ड संख्या 1 ,2और 3 में विकास की नई गाथा लिखा जा रहा है, धनबाद नगर निगम से वार्ड संख्या 2 और 3 में लगभग 13 काम मे सड़क और नाली का निर्माण 3 करोड की लागत से किया जा रहा है। इन कामों से पहले इसी संवेदक के द्वारा रामकनाली से लेकर मोदीडीह तक 2 फेस में 4- 4 करोड़ रुपए करके 8 करोड़ का सड़क निर्माण का कार्य किया गया था ,कतरास वार्ड संख्या 1 में नगर निगम के द्वारा लिलोरी स्थान मुख्य मार्ग पर नाली और सडक़ का निर्माण किया जा रहा है। जिसकी लागत लगभग 4 करोड रुपये की है। वहीं
निर्माण कार्य की जिम्मेवारी जिले के मशहूर ठेकेदार (संवेदक) राणा उदय प्रताप सिंह को दी गई है।
नाली और सडक निर्माण के लिए 4 करोड कहीं तीन करोड रुपए की लागत यह सोचने वाली बात है। कहीं ना कहीं यह पैसा जनता से विभिन्न टैक्सों के माध्यम से नगर निगम वसूल करती है। और वार्ड के विकास के नाम पर इन्हीं जनता के टैक्स के पैसों को निगम के द्वारा नालियों में बहाया जाता है।


घटिया निर्माण सामग्री से हो रहा है नाली का निर्माण—- बताते चलें कि इस 800 मीटर नाली और सडक़ निर्माण जिसकी लागत लगभग 4 करोड है संवेदक के द्वारा घटिया निर्माण सामग्री का प्रयोग किया जा रहा है। यह तो आने वाला समय बताएगा कि नाली निर्माण के बाद कितने दिनों तक अपने अस्तित्व में रहेगी।
मामले को लेकर ग्रामीणों का कहना है कि बहुत ही घटिया स्तर का कार्य संवेदक के द्वारा किया जा रहा है ग्रामीणों ने बताया कि नाली निर्माण में 12 एक का मसाला प्रयोग किया गया है, और जो सड़क निर्माण किया जा रहा है उसमें जगह-जगह सिर्फ बालू ही नजर आ रहा है सीमेंट की मात्रा नजर नहीं आ रही है ऐसे में सडक एक बरसात भी नहीं झेल पाएगा।
कार्य के दौरान नगर निगम का कोई भी जेई का प्रतिनिधि कार्य स्थल पर मौजूद नहीं रहना एक बड़े सवाल को पैदा करता है।



मामले को लेकर क्या कहते हैं निगम के कार्यपालक अभियंता
इस मामले को लेकर जब धनबाद नगर निगम के कार्यपालक अभियंता अनूप कुमार समानता से बात की गई तो उन्होंने बताया कि ग्लोबल टेंडर का मतलब होता है खुला हुआ टेंडर जिसमे कोई भी टेंडर डाल सकता है ना कि एक ही आदमी को 100 करोड़ रुपए का काम दिया जाए ।अगर काम में कोई गड़बड़ी है तो आकर यहां शिकायत करें उस पर हम लोगों के द्वारा कार्रवाई की जाएगी।
जबकि एक ही संवेदक पर नगर निगम मेहरबान क्यों है के सवाल पर उन्होंने बताया कि यह संयोग होगा कि आसपास के सभी क्षेत्रों का काम एक ही संवेदक को मिल गया हो


वार्ड नंबर 2 के पार्षद प्रतिनिधि मासूम खान से इस मामले पर पूछे जाने पर बताया कि मेरे वार्ड में विकास कार्य हो रहा है लेकिन हमें इसकी जानकारी नहीं है ,अपने जनता जनार्दन से जानकारी पाकर हमने काम को देखने गया लेकिन वहां जो काम हो रहा है वह अनुचित है वहां नाली (ड्रेन )का कोई मतलब ही नहीं है, काम जो है घटिया तरह से हो रहा है उन्होंने इसकी सारी जवाबदेही निगम अधिकारियों की मिली भगत बताया

वहीं दूसरी ओर वार्ड नंबर 3 के पार्षद विनायक गुप्ता से पूछे जाने पर बताया कि जो भी काम हमारे वार्ड में हो रहा है उसकी कोई जानकारी संवेदक या नगर निगम अधिकारियों द्वारा नहीं दिया गया है,
निगम क्षेत्र में विकास कार्य पार्षद को विश्वास में लेकर कराया जाना चाहिए, अगर सुचारू रूप से काम नहीं संवेदक द्वारा होता है तो कतरास की जनता बख्शीगी नहीं और इस कार्य को विरोध करेंगे, संवेदक द्वारा गुणवत्ता सही नहीं है तो संवेदक के ऊपर कार्रवाई होनी चाहिए और आग्रह करते हैं कि प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मिडीया उजागर करने के लिए तत्पर रहें |मै नगर निगम के बोर्ड मीटिंग में हमेशा बात रखा हूं कि पार्षदों को योजना कि जानकारी मिलना चाहिए|

Related posts