चतरा:शानडीह में किया गया जनसंख्या नियंत्रण पर परिचर्चा अनियंत्रित जनसंख्या समस्याओं का कारण,मानवता का दुश्मन साबित होगा:योगेश पाण्डेय



*


जमुआ प्रखंड के पंचायत पोबी अंतर्गत ग्राम शानडीह में विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर रविवार को परिचर्चा का आयोजन किया गया। अध्यक्षता करते हुए युवा समाजसेवी योगेश कुमार पांडेय ने विचार ब्यक्त करते हुए अनियंत्रित जनसंख्या के दुष्परिणाम से अवगत कराते हुए कहा कि जुलाई 2017 में विश्व की जनसंख्या 7.5 अरब है। 2050 तक 12 अरब हो जायेगी। हर सेकेंड 4 बच्चे जन्म लेते है। 4 में से 1 ब्यक्ति की उम्र 10 से 24 साल के बीच है। 50 प्रतिशत से अधिक आबादी 25 वर्ष से कम है। आबादी के मामले में पहले स्थान पर चीन 1.3 अरब है। दूसरे नम्बर पर भारत 1. 2 अरब है। 2030 तक चीन को भारत पीछे छोड़कर पहला स्थान पर आ जायेगा। खाद्यान्न,आवास,कृषि भूमि ,बेरोजगारी सहित विभिन्न समस्या का मुख्य कारण अनियंत्रित जनसंख्या है। जनसंख्या नियंत्रण में धर्म,मज़हब बाधक नही बनना चाहिये। उग्रवाद,आतंकवाद की तरह ही अनियंत्रित जनसंख्या आनेवाले समय में मानवता का दिवस को मना लेने से कुछ नही होता इसके उद्देश्य की पूर्ति की और सकारात्मक दिशा में पहल करेंगे तभी सार्थक होगा। विश्व जनसंख्या दिवस का उद्देश्य विभिन्न जनसंख्या मुद्दों पर जैसे परिवार नियोजन,लिंग समानता,गरीबी,मातृत्व स्वास्थ्य एवं मानव अधिकारों के महत्व के प्रति वैश्विक स्तर पर जन जागरूकता है। कमलेश कुमार राम पप्पू ने कहा कि छोटा परिवार सुखी परिवार बड़ा परिवार में सुख,शांति,समृद्धि,सद्भाव की कमी होता है। सुबोध कुमार साव ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण नीति पूरे देश में समान रूप से लागू होना चाहिए। नियम का उल्लंघन करनेवाले को सभी प्रकार के लाभ से वंचित कर देना ही राष्ट्रहित में होगा। एक राष्ट्र,एक संविधान की आवश्यकता है। द्वारिका रजक ने कहा कि मानव जनसंख्या नियंत्रण पर अंकुश नही लगा पा रहा है तो माल्थस के मुताबिक प्रकृति स्वयं प्राकृतिक आपदा से जनसंख्या को नियंत्रित कर रही है जिससे मानव को सिख लेने व संभलने की जरूरत है। विचार ब्यक्त किये। उक्त अवसर पर रामजी साव,भैरो मिस्त्री,लखन मिस्त्री,अशोक मालाकार सहित अन्य मौजूद थे ।

Related posts