Dhanbad:ब्राह्मण समाज के तत्वावधान में धनबाद के रणधीर वर्मा चौक पर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्री जीतन राम मांझी का किया गया पूतला दहण

श्रीराम पाण्डेय जी की अध्यक्षता में विश्व ब्राह्मण संघ संन्मार्ग WBF तथा अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के तत्वावधान में धनबाद के रणधीर वर्मा चौक पर विहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्री जीतन राम मांझी का पूतला दहण किया गया।ज्ञात रहे कि श्री जीतन राम मांझी ने एक महती सभा में ब्राह्मणों का अपशब्दों, असंसदीय एवं अश्लील गालियां दिये थे के प्रतिकार स्वरुप उनका विरोध दिवस मनाकर पूतला दहण किया गया।इस कार्यक्रम में भारतीय जनता मजदूर ट्रेड यूनियन के प्रदेश महामंत्री श्रीमति बोबी पाण्डेय, प्रदेश महासचिव सुरेश चन्द्र तिवारी,भाजपा के जाने-माने नेता एवं पैक्स अध्यक्ष श्री गिरीजा शंकर उपाध्याय जी ने ब्राह्मणों पर अभद्र छिटाकशी करने के लिए कहा कि जबतक श्री जीतन राम मांझी सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगेंगे तबतक उनका विरोध होते रहेगा। मौके पर साहित्यकार श्री भागवत पाण्डेय, स्टेट बार काउंसिल के को चेयरमैन श्री राधेश्याम गोस्वामी जी,अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के कृष्णा दूबे, विश्व ब्राह्मण संघ के नेता श्री शक्ति पाठक, अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के संगठन मंत्री श्री बलराम उपाध्याय, डी.के.उपाध्याय,धुर्येटि प्रसाद दूबे,हरेन्द्र नाथ तिवारी,डा.प्रमोद कुमार मिश्रा,डा.भवेश चन्द्र चौबे, राजीव कुमार द्विवेदी, राजेन्द्र उपाध्याय, प्रकाश मिश्रा, पं.रविकांत शास्त्री,युवा नेता श्री राज कुमार पाठक, शशिभूषण पाण्डेय, अंजनी कुमार, श्रीनाथ तिवारी,योगेश्वर पाण्डेय,राजेश कुमार मिश्रा, खगेन्द्र नाथ दूबे,विवेकानंद पाण्डेय, कृष्णानंद मिश्रा,दीपक चौबे वरिष्ठ अधिवक्ता ,श्री विजय कुमार पाण्डेय वरिष्ठ अधिवक्ता,दीपक पाण्डेय,विद्युत चक्रवर्ती आदि उपस्थित हुए।इस कार्यक्रम में वक्ताओं ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री श्री जीतन राम मांझी को कोई बरगलाया नहीं है वल्कि सामाजिक बैमनस्यता फ़ैलाने के उद्देश्य से वे इस तरह की बयान देकर अपने राजनीतिक ब्यापार बढाने चाहते हैं। उनकेे समाज के लोग जिन्होने इनके कृत्यों को समझ कर इन्हे छोड दिये हैं ।उन्हे फिर से साथ करना चाहते हैं इसलिए ऐसा हथकंडा अपना रहे हैं।लेकिन ब्राह्मण सभी जाती को अपना यजमान भाई मानते हैं परन्तु श्री जीतन राम मांझी जैसे ब्यक्ति जो अपने बड़े भाई को ही गाली देते हैं का विरोध करते रहेंगे। चारो वर्ण में ब्राह्मण, क्षत्रीय,वैश्य और शुद्र चार भाई हैं में ब्राह्मण सबसे बड़ा भाई को ही गाली देने वाले का उनका भाई भी साथ नहीं देगा। उन्हे इतिहास से सबक लेना चाहिए कि जिन लोगों ने ब्राह्मणों को गाली दिया उनका क्या हश्र हुआ। चारों युगों का आकलनं करके देखें।

Related posts