UP:जिला पंचायत की प्रत्याशी आशा यादव को नजरबंद होने के कारण अंतुल तेवतिया का निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता हुआ साफ।

जिला पंचायत चुनाव के अध्यक्ष पद का चुनाव की तैयारी चल रही है सभी उम्मीदवारी मैदान में उतरने की कयास में लगे हुए हैं मगर एक प्रत्याशी का नामांकन होना खटाई में पड़ता नजर आ रहा है। जिस कारण दूसरे प्रत्याशी का निर्विरोध होना नजर आ रहा है। यह मामला उ0प्र0 के जिला बुलंदशहर का है। जिला बुलंदशहर के आशा यादव को एस0टी0एफ की टीम ने नोयडा में उनके आवास पर नजरबंद कर दिया है। जिस कारण उनका नामांकन होना नजर नहीं आ रहा है। इसलिए आशा यादव के पति हरेंद्र यादव ने पार्टी से नामांकन कराने की मदद माँगी है। इसी कारण भाजपा की जिला पंचायत प्रत्याशी अंतुल तेवतिया निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता साफ होता नजर आ रहा है। इसलिए अब बुलंदशहर जिला पंचायत की अध्यक्ष दिवंगत वरिष्ठ R .S .S पदाधिकारी की पुत्री भाजपा की उम्मीदवार अंतुल तेवतिया हो सकती है।

Related posts